लखनऊः मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी का जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव में दबदबा बना हुआ है. नामांकन के दिन 26 जून को ही भाजपा के 17 प्रत्याशियों का निर्विरोध निर्वाचन तय हो गया था तो मंगलवार को नाम वापसी के दिन चार जिलों में विपक्षी दल के नेताओं ने पीलीभीत, शाहजहांपुर, बहराइच के साथ सहारनपुर में अपना नामांकन पत्र वापस ले लिया है. तो इन चार जिलों में भी भाजपा के प्रत्याशी निर्विरोध हो गए हैं.

इन जिलों में निर्विरोध निर्वाचन

मेरठ, गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद, बुलंदशहर, अमरोहा, मुरादाबाद, आगरा, ललितपुर, झांसी, बांदा, मऊ, गोरखपुर, गोण्डा, बलरामपुर, चित्रकूट, श्रावस्ती और वाराणसी जिलों में भाजपा के उम्मीदवार निर्विरोध निर्वाचित घोषित किये गए हैं. वहीं सपा के पास सिर्फ इटावा की सीट निर्विरोध है.

तीन जुलाई को 53 सीटों पर मतदान होगा. जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में मंगलवार को नाम वापसी हो गई, इससे साफ हो गया कि 22 सीटें निर्वाचित हो गई. इससे पहले भी प्रदेश की 18 सीटों पर निॢवरोध निर्वाचन पहले ही हो था. अब 37 ऐसी हैं जिनमें जिनमें केवल दो-दो उम्मीदवार ही चुनाव मैदान में हैं. बची हुई सीटों पर मतदान तीन जुलाई को होगा. उसी दिन शाम को मतगणना भी होगी.

इन 35 सीटों पर सिर्फ भाजपा-सपा में होगी सीधी टक्कर

लखनऊ, हरदोई, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, शामली, हापुड, बिजनौर, बरेली, पीलीभीत, अलीगढ़, हाथरस, कासगंज, फिरोजाबाद, मैनपुरी, कन्नौज, औरैया, कानपुर देहात, कानपुर नगर, जालौन, महोबा, हमीरपुर, फतेहपुर, कौशाम्बी, प्रयागराज, अमेठी, बाराबंकी,अम्बेडकरनगर, अयोध्या, बहराईच, बस्ती, सिद्धार्थनगर, महराजगंज, कुशीनगर, देवरिया, बलिया, चंदौली, मिर्जापुर, सोनभद्र

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *