प्रयागराज में डेंगू बुखार से लोगों की मौत

प्रयागराज में डेंगू का खतरा बढ़ रहा है. गंगा-यमुना नदियों के बाढ़ से प्रभावित हुए मोहल्‍लों के साथ ही अन्य इलाकों में भी डेंगू के मामले बढ़ रहे हैं. गोविंदपुर और शिवकुटी के इलाके डेंगू से ज्यादा प्रभावित है. अगस्त में बाढ़ उतरने के बाद अबतक 16 नए मरीज आ चुके हैं. जबकि गुरुवार भोर में चिल्ला मलिन बस्ती में दो लोगों की मौत हो गई. जिले में एक माह में डेंगू के 16 मरीज आने से जिले का स्वास्थ्य महकमा भी परेशान है. एंटी लार्वा का छिड़काव, फागिंग व साफ-सफाई चुस्त-दुरुस्त करने का आदेश दिया गया है.

गोविंदपुर चिल्ला निवासी लालचंद्र के 28 वर्षीय पुत्र अनुज को कई दिनों से बुखार से पीड़ित चल रहा था. गुरुवार भोर में तबीयत बिगड़ने पर स्वजन उसे लेकर स्वरूपरानी नेहरू चिकित्सालय जा रहे थे लेकिन रास्ते में अनुज की मौत हो गई. अनुज मोबाइल फोन की दुकान पर काम करता था. लालचंद्र के पड़ोस में ही रहने वाली 55 वर्षीय मूर्ति देवी कई दिनों से बुखार से पीड़ित थी. आज सुबह मूर्ति की भी मौत हो गई.

जिला मलेरिया अफसर एके सिंह ने बताया कि हमारे पास केवल 6 कर्मी हैं. केवल शहरी क्षेत्र में ही 80 वार्ड हैं. ऐसे में नगर आयुक्त से निवेदन किया गया है कि सफाई कर्मियों से एंटी लार्वा का जलजमाव वाले क्षेत्रों में छिड़काव व फागिंग कराई जाए. हमने जिलाधिकारी के आदेश पर 14 डेली वेज वर्करों को रखा है. अब मलेरिया विभाग 20 मशीनों से बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में छिड़काव करा रहा है. निगम कर्मियों के सहयोग से बहुत जल्द ही सभी वार्डों में एक-एक कर्मी छिड़काव करने लगेगा.

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published.