प्रयागराज में जहरीले भोजन ने ली दो और जान

प्रयागराज: नौ दिन पहले विषाक्त भोजन करने से बीमार हुए पिता के बाद शनिवार को भाई एवं बहन की भी जान चली गई. मां और एक बेटी का अभी इलाज चल रहा है. दोनों की हालत गंभीर है. दो अन्य की मौत के बाद गांव में पुलिस बल को लगा दिया गया है.

बता दें कि होलागढ़ थानांतर्गत भगौतीपुर खुटहना गांव निवासी सज्जन पटेल (40) पुत्र रामरतन पटेल खेती किसानी करते थे. ग्रामीणों के मुताबिक 30 जुलाई को खाना खाते समय सज्जन ने खाना कुछ ठीक नहीं होने की आशंका जताई. लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया. उसके बाद बचे हुए खाने को गीता देवी ने दोनों बकरियों को खिला दिया. खाना खाने के करीब एक से डेढ़ घंटे बाद ही दोनों बकरियां मर गईं. इस बीच सज्जन पटेल की तबियत खराब हो गई. उसे उल्टी हुई और कुछ ही देर में गीता और उसके तीनों बच्चे भी बीमार हो गए.

परिवार के लोग पांचों लोगों को सोरांव स्थित नर्सिंग होम इलाज के लिए ले गए, जहां इलाज के दौरान तीन अगस्त को सज्जन पटेल की तबियत ज्यादा बिगड़ी तो परिवार के लोग फाफामऊ स्थित नर्सिंग होम ले गए. जहां उसकी मौत हो गई. पत्नी गीता व बेटे रचित को भी फाफामऊ में लाकर भर्ती करा दिया गया. छोटी बेटी निशा को चिल्ड्रेन हास्पिटल में भर्ती कराया गया.

इलाज के दौरान सात अगस्त की रात में पहले निशा की और उसके बाद फाफामऊ में इलाजरत रचित उर्फ कोमल ने दम तोड़ दिया. गीता और विनीता की हालत अभी भी गंभीर है. होलागढ़ थानाध्यक्ष अनिल कुमार ने बताया कि फूड प्वाइजनिंग की बात सामने आ रही है. दोनों बच्चों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है. खाने में किसी ने जानबूझकर जहर मिला दिया अथवा खाना विषाक्त कैसे हो गया समेत सभी पहलुओं पर भी जांच की जा रही है.

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published.