प्रयागराज में सराफा कारोबारी की हत्या का खुलासा

प्रयागराज पुलिस ने 2016 में हुए ललित वर्मा हत्याकांड का 12 अगस्त को खुलासा कर दिया. इस हत्याकांड में पहले आरोपी बनाई गई बसपा की पूर्व विधायक पूजा पाल व अन्य को मिली क्लीन चिट पर सीबीआई ने न केवल मुहर लगा दी है, बल्कि हत्याकांड में मृतक के चचेरे भाइयों संतोष एवं विक्रम सोनी के अलावा उनके दोस्त बृजेश पाल को गिरफ्तार भी कर लिया है. सीबीआई के मुताबिक ललित की हत्या अवैध संबंध और प्रॉपर्टी के विवाद के चलते हुई थी। आरोपियों के पास से घटना में इस्तेमाल पिस्टल बरामद कर ली गई है.

बता दें तीन फरवरी 2016 को सिविल लाइंस में में नवाब युसुफ रोड स्थित बीएसएनल ऑफिस के पीछे सराफा का काम करने वाले ललित वर्मा की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. हाईकोर्ट के निर्देश पर 3 सितंबर 2019 को सीबीआई ने लखनऊ में विशेष अपराध शाखा में केस दर्ज कर तफ्तीश शुरू की. तफ्तीश के दौरान पता चला कि हत्या में गलत लोगों को नामजद किया गया और जिन लोगों ने प्रत्यक्षदर्शी होने का दावा किया, वह घटनास्थल पर थे ही नहीं. जिसके बाद पॉलीग्राफ और ब्रेन मैपिंग की मदद से वास्तविक गवाहों के बयान लेते हुए हत्या का खुलासा कर दिया गया.

प्रवक्ता ने बताया कि संतोष कुमार सोनी और बृजेश से पूछताछ के बाद बृजेश के दोस्त राहुल के कौशांबी स्थित घर से हत्या में इस्तेमाल की गई पिस्टल बरामद की गई. गिरफ्तार किए गए संतोष और विक्रम सगे भाई हैं। दोनों के परिवारों के बीच संपत्ति का विवाद था. साथ ही ललित के संतोष की पत्नी से अवैध संबंध थे. इसी के चलते संतोष और विक्रम ने बृजेश के साथ मिलकर उसकी हत्या कर दी.

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *