Shailesh turned out to be a political juggler in Prayagraj block chief election

प्रयागराजः जिले के प्रतापपुर में ब्लॉक प्रमुख चुनाव में भाजपा, सपा और कांग्रेस ने शैलेश यादव को ही अपना प्रत्याशी घोषित किया था. बता दें सभी दलों की प्रत्याशियों की सूची में प्रतापपुर ब्लाक की सीट से शैलेश यादव का नाम था. सभी पार्टियों का साथ छोड़कर शैलेश यादव ने निर्विरोध चुनाव जीत लिया. अब विजयी होने के बाद सभी पार्टियां शैलेश की जीत को अपना बताने में जुटी हुई हैं. फिलहाल शैलेश यादव ने सत्तारूढ़ दल का दामन थामने की घोषणा की है.

आपको बता दें शैलेश यादव की पहचान खांटी समाजवादी नेता के तौर पर होती रही है. सपा में वह लंबे अरसे से सक्रिय भूमिका में हैं. यही कारण है कि सपा जिलाध्यक्ष योगेश यादव ने चुनाव की तारीखों का एलान होने से पहले ही शैलेश यादव को प्रतापपुर ब्लॉक से अपना अधिकृत उम्मीदवार घोषित किया था. इसके बाद 8 जुलाई को कांग्रेस के जिलाध्यक्ष सुरेश यादव ने शैलेश को पार्टी का अधिकृत प्रत्याशी बनाए जाने की घोषणा की थी.

शैलेश यादव 9 जुलाई को नाम वापसी के बाद निर्विरोध निर्वाचित हो गए. इसके बाद तीनों पार्टियां जीत का श्रेय खुद को देने लगीं. शैलेश यादव को लग रहा था कि आपसी खींचतान के चलते हो सकता है कि सपा किसी और को टिकट दे दे. उन्होंने बीजेपी खेमे में अपनी संभावनाएं तलाशीं. बीजेपी ने उनके बजाय सीमा विश्वकर्मा को प्रत्याशी घोषित कर दिया तो शैलेश ने कांग्रेस पार्टी का समर्थन हासिल कर लिया. हालांकि, बीजेपी ने 24 घंटे में ही अपना प्रत्याशी बदलते हुए शैलेश यादव के नाम का लेटर जारी कर दिया. शैलेश के इस सियासी दांवपेंच में सभी पार्टियां उलझकर रह गईं और बाजी अंत में शैलेश के हाथ ही लगी. शैलेश ने खुद को सियासी बाजीगर साबित करते हुए निर्विरोध ही मैदान मार लिया.

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *