प्रयागराज से मेरठ तक बनेगा सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे, 12 घंटे का सफऱ साढ़े 6 घंटे में होगा पूरा

प्रयागराज: पश्चिमी उत्तर प्रदेश को पूर्वी उत्तर प्रदेश से जोड़ने वाले गंगा एक्सप्रेस-वे के लिए सीएम योगी ने शनिवार को बताया कि मेरठ से प्रयागराज तक गंगा एक्सप्रेस-वे के लिए 93% जमीन अधिग्रहण का काम पूरा हो चुका है. ये उत्तर भारत का सबसे लंबा एक्सप्रेस वे होगा. 594 किलोमीटर का सफर लोग साढ़े 6 घंटे में पूरा कर सकेंगे. अभी तक इतनी दूरी तय करने के लिए कम से कम 11 से 12 घंटे लगते हैं. यही नहीं, मेरठ से लखनऊ पहुंचने में केवल 5 घंटे लगेंगे. इसके लिए शनिवार को केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की मौजूदगी में सीएम योगी ने 5,100 करोड़ रुपए का सिक्योरिटाइजेशन लोन ट्रांसफर किया.

एक्सप्रेस-वे की खास बातेंः

  • गंगा एक्सप्रेस-वे से मेरठ-प्रयागराज तक के 519 गांव जुड़ेंगे.
  • एक्सप्रेस-वे 6 लेन का होगा। इसे आगे बढ़ाया भी जा सकेगा.
  • इस पर 51 हजार करोड़ रुपए का खर्च आएगा। इसे 26 महीनों में पूरा करने का प्लान है.
  • एक्सप्रेसवे के निर्माण का पहला चरण 596 किलोमीटर लंबा होगा.
  • इसमें मेरठ, ज्योतिभा फुले नगर, हापुड़, संभल, बदायूं, शाहजहांपुर, फर्रुखाबाद, हरदोई, उन्नाव, रायबरेली, प्रतापगढ़ और प्रयागराज जिले शामिल होंगे.
  • गंगा एक्सप्रेस-वे पर चलने वाले वाहनों की टॉप स्पीड 120 किमी प्रति घंटे तक सीमित रहेगी.

14 बड़े और 126 छोटे पुल बनाए जाएंगेः

प्रस्ताव के मुताबिक, गंगा एक्सप्रेस-वे में 14 बड़े और 126 छोटे पुल बनाए जाएंगे. इसके अलावा आठ रोड ओवरब्रिज और 18 फ्लाईओवर होंगे. एक्सप्रेस-वे के रूट में पड़ने वाली गंगा नदी पर एक किलोमीटर का पुल और रामगंगा पर 720 मीटर का पुल बनाया जाएगा।.

इस एक्‍सप्रेस-वे पर नौ जन सुविधा परिसर, 2 मेन टोल प्‍लाजा और 12 रैंप टोल प्‍लाजा होंगे. एक्सप्रेस-वे के पास कई तरह की इंडस्ट्री खोलने की भी तैयारी है. इसके अलावा इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट, मेडिकल इंस्टीट्यूट की स्थापना भी होगी.

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *