साइकिल से बिहार से प्रयागराज पहुंचे दो युवा

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के छतरपुर जनपद (Chhatarpur District) के बकस्वाहा जंगल में काटे जाने वाले 2.80 लाख पेड़ों को बचाने के लिए बनारस हिंदु विश्वविद्यालय (BHU) के एग्रोफारेस्ट्री से एमए फाइनल ईयर के एक स्टूडेंट ने बचाने का अभियान छेड़ा है. यह युवा अपने एक साथी के साथ बिहार के मुजफ्फरपुर जिले से सात दिन पहले साईकिल यात्रा शुरू की है। जो बिहार के विभिन्न जनपदों से होते हुए शनिवार को दोपहर में प्रयागराज पहुंची.

बिहार (Bihar) प्रांत के मुजफ्फरपुर जिले (Muzaffarpur District) के ढोली बाजार निवासी सिद्धार्थ झां के पिता वहीं पर कृषि विभाग में कार्यरत हैं. सिद्धार्थ झां बीएचयू वाराणसी से एमए सेकेंड ईयर के छात्र हैं. सिद्धार्थ झां ने 24 जुलाई से अपने कस्बे ढोली बाजार से अपने साथी राजीव कुमार के साथ साइकिल यात्रा पर निकले हैं. वह बिहार के आरा, बक्सर, पटना, वाराणसी, मिर्जापुर से होते हुए 31 जुलाई को प्रयागराज पहुंचे.

संगम तट पर उनका स्वागत तीर्थ पुरोहित पं. राजेंद्र पालीवाल ने माला पहनाकर व तिलक लगाकर किया. यहां दोनों पर्यावरण प्रेमियों का स्वागत किया और उनकी इस नेक मुहिम की बधाई दी. दोनों युवा यहां से चित्रकूट के लिए रवाना हो गए. वहां से बादां और फिर छतरपुर जाकर धरना प्रदर्शन करेंगे.

दोनों युवाओं ने बताया कि जब इस काेविड 19 काल में बडे़-बड़े लोग आक्सीजन के अभाव में जिंदगी की जंग हार जा रहे हैं, ऐसे में 2.80 लाख पेड़ों को सिर्फ हीरे के लिए काटना किसी भी सूरत में उचित नहीं है. इसे रोका जाना चाहिए. बता दें मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले का बकस्वाहा जंगल में करोड़ों के हीरे दबे होने की जानकारी मिली है। जिसके खनन के लिए मध्य प्रदेश सरकार ने एक कंपनी करीब 2.80 लाख पेड़ काटे जाने की अनुमति दी है.

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *