woman came write brutal report of Prayagraj police driven away, fainted at the gate of the police station

प्रयागराजः जिले में पुलिस की चौखट पर न्याय की आस लेकर पहुंची एक घायल महिला थाने के गेट पर पहुंचकर बेहोश हो गई. फटे सिर से बह रहे खून और गेट पर बेहोश पड़ी महिला का बूढ़ा ससुर कभी भागकर थाने के अंदर जा रहा था तो कभी बाहर आ रहा था. लेकिन पुलिस वालों ने उसकी शिकायत सुनने की जरूरत तक नहीं समझी. जब इसकी थाने में मौजूद पत्रकारों ने पुलिस वालों दी तब पुलिस वाले महिला को उठाकर उसकी पीड़ा सुनी. उसके बाद तत्काल उसका शिकायती पत्र लेकर उसे अस्पताल भेज दिया. नैनी कोतवाली पुलिस की संवेदनहीनता पर लोगों ने नाराजगी भी जताई.

नैनी थाने के अंतर्गत अरैल चौकी क्षेत्र के चूड़ियां भेंट गांव की रहने वाली पूजा तिवारी के अनुसार उसका 11 साल का बेटा है. जिसे पड़ोस की रहने वाली सीमा तिवारी पत्नी गेंदालाल तिवारी का बेटा रोज मारता-पीटता है और गाली-गलौज करता है. गुरुवार की दोपहर करीब ढाई बजे सीमा के बेटे ने फिर से निखिल को पीटा. निखिल जब रोते हुए घर पहुंचा तो पूजा इसकी शिकायत लेकर सीमा के घर चली गई. आरोप है कि वहां सीमा ने उसे कमरे में बंद कर लिया. उसके बाद उसके बेटे शेरू, पति गेंदा तिवारी और छोटू तिवारी ने मिलकर पूजा को लाठी-डंडों से पीटना शुरू कर दिया. जिसमें पूजा का सिर फट गया और वह गंभीर रूप से घायल हो गई. शोर-शराबा होने पर जब गांव के लोग दौड़े तो हमलावरों ने दरवाजा खोलकर उसे बाहर कर दिया.

घटनास्थल से ही डायल-112 को सूचना दी गई, लेकिन पुलिसवाले नहीं पहुंचे तो पूजा तिवारी अपने ससुर और बेटे निखिल के साथ नैनी कोतवाली पहुंची. जहां गेट पर पहुंचते ही वह बेहोश होकर गिर गई. फिलहाल उसे सीएचसी चाका भेज दिया गया है. इंस्पेक्टर नैनी सुजीत दुबे ने बताया कि पारिवारिक विवाद था. महिला को इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया है. इसकी तहरीर के आधार पर कार्रवाई की जा रही है.

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published.